Talks With Students



Power


I think we ought to talk about something of which some of us may be aware, namely, the peculiar desire for power over others and over oneself, which most of us have.

ताकत


मेरा विचार है की हम किसी ऐसे विषय पर बात करें जिसके बारे में हममें से कुछ लोगों को पता हो – जैसे, दूसरों पर और खुद पर भी प्रभुत्व जमाने की उस खास इच्छा के बारे में जो कि हममें से ज़्यादातर लोगों में होती है |

Read more >>

Question: Why does one feel sad when someone dies whom one knew, whom one loved?


Krishnamurti: You feel sad when any friend or near relation of yours dies. Do you feel sad for the person who is dead or for yourself?

प्रश्न : जब किसी ऐसे व्यक्ति कि मृत्यु हो जाती है जिसे हम जानते थे, जिससे हमें प्यार था, तो हमें दुःख


कृष्णमूर्ति : जब आपके किसी मित्र कि या निकट संबंधी की मृत्यु हो जाती है तो आप दुखी हो जाते हैं | क्या आप उस व्यक्ति के लिए दुखी होते हैं जो मर चुका है, या आप अपने लिए दुखी होते हैं?

Read more >>

Joy


From childhood, we are brought up to condemn some things or some persons, and to praise others. Have you not heard grownup people say, ‘You are a naughty boy’?

आनंद


बचपन से ही आपकी परवरिश इस प्रकार हो जाती है की आप कुछ चीज़ों या लोगों की निंदा करना और कुछ की प्रशंसा करना सीख लेते हैं | क्या बड़ों के मुंह से आपने ऐसा कभी नहीं सुना की ‘तुम बहुत शैतान लड़के हो’?

Read more >>

Question: Is it true that the lunar eclipse affects our life? If it does, why is it so?


Krishnamurti: If you are a lunatic, if you are a little touched in the head, it may affect you. But I do not see otherwise how it can.

प्रश्न : क्या यह सच है की चंद्र-ग्रहण हमारे जीवन को प्रभावित करता है तो ऐसा कैसे होता है?


कृष्णमूर्ति : यदि आप विक्षिप्त हैं, यदि आपके दिमाग में कोई गड़बड़ी है तो यह आपको प्रभावित कर सकता है | परंतु मुझे इसके अलावा ऐसी कोई वजह नज़र नहीं आती कि यह आपको कैसे प्रभावित कर सकता है |

Read more >>    top of page ↑

Mediocrity


One of the greatest difficulties that we have is to find out what makes for mediocrity. You know what that word means? A mediocre mind really means a mind that is impaired, that is not free, that is caught in fear, in a problem; it is a mind that merely revolves round its own self-interest, round its own success and failure, its own immediate solutions of the sorrows that inevitably come to a petty mind.

आधा–अधूरापन


हमारी एक बहुत बड़ी कठिनाई यह पता लगा सकने की है कि आधा–अधूरापन किन कारणों से बना रहता है | क्या आप जानते हैं कि इस शब्द का क्या अर्थ है? आधा–अधूरा मन वस्तुतः वह मन है जो कि सामर्थ्यहीन है, जो मुक्त नहीं है, जो भयग्रस्त है, जो किसी न किसी समस्या में उलझा हुआ है – यह एक ऐसा मन है जो बस स्वार्थ को ही केंद्र बनाकर उसके चारों ओर, अपनी ही सफलता और असफलता के इर्द-गिर्द, अपने ही दुखों के तात्कालिक समाधानों कि तलाश में रहता है, और एक क्षुद्र मन इन दुखों से अनिवार्यतः घिरा ही रहता है |

Read more >>    top of page ↑


Previous | 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | Next