J. Krishnamurti's Teachings Online in Indian Languages (Hindi, Punjabi, Gujarati, Marathi, Bengali etc.)



यह महत्त्वपूर्ण है


देखिए, जैसा कि मैंने उस दिन कहा था, वक्ता महत्वपूर्ण नहीं है, पर वह क्या कहता है, यह महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि वह जो कुछ कह रहा है, वह आपके ही आत्म-वार्तालाप का उच्चस्वर है | वक्ता जिन शब्दों का प्रयोग कर रहा है, उनके द्वारा आप अपने आप को ही सुन रहे हैं, न कि वक्ता को, और इसीलिए सुनना अत्यधिक महत्वपूर्ण हो जाता है |

Read more >>

Why Are We Bored?


If you are bored, why are you bored? What is the thing called boredom? Why is it that you are not interested in anything? There must be reasons and causes which have made you dull: suffering, escapes, beliefs, incessant activity, have made the mind dull, the heart unpliable.

हम क्यों ऊबते है?


यदि आप ऊब रहे है तो क्यों ऊब रहे है? वह क्या है जिसे हम ऊब कहते है? ऐसा क्यों है की आप किसी बात में रूचि नहीं रखते? ऐसा होने का कोई कारण, कोई आधार तो होगा जिसने आपको मंद-कुंद बना दिया है | दुःख, पलायन, विश्वास, अनवरत क्रियाकलाप ने आपके मन को कठोर कर दिया है |

Read more >>

Question: Is it right to copy something?


Krishnamurti: Let us go step by step. When I use English, I am copying English, am I not?

प्रश्न : क्या किसी चीज़ का अनुकरण करना उचित है?


कृष्णमूर्ति : आईए, इस बारे में हम धीरे-धीरे विचार करें | जब मैं अंग्रेज़ी का प्रयोग करता हूं तो मैं अंग्रेज़ी की नक़ल करता हूं, है न?

Read more >>    top of page ↑

To Think We Own a Human Being Makes Us Feel Important


Jealousy is one of the ways of holding the man or the woman, is it not? The more we are jealous, the greater the feeling of possession. To possess something makes us happy; to call something, even a dog, exclusively our own makes us feel warm and comfortable. To be exclusive in our possession gives us assurance and certainty to ourselves. To own something makes us important; it is this importance we cling to.

यह सोचना की मैं किसी का स्वामी हूँ, हमें महत्त्वपूर्ण होने का एहसास देता है


ईर्ष्या किसी पुरुष या किसी स्त्री को अपने स्वामित्व में बनाये रखने का एक ढंग है | हम जितने अधिक ईर्ष्यालु होंगे, हमारा स्वामित्वभाव उतना ही प्रबल होगा | अपने स्वामित्व में किसी को रखने से हमें ख़ुशी मिलती है, किसी पर, यहाँ तक की कुत्ते पर भी, अपना एकाधिकार जताना हमें भला और सुखद लगता है | उस पर अपना एकमेव स्वामित्व हमें सुनिश्चितता और आत्मविश्वास से भर देता है | किसी का स्वामी होना हमें महत्त्वपूर्ण बना देता है और यह महत्वपूर्ण होना ही है जिससे हम चिपके रहते है |

Read more >>    top of page ↑