J. Krishnamurti's Teachings Online in Indian Languages (Hindi, Punjabi, Gujarati, Marathi, Bengali etc.)







Question: How can we create a happy world when there is suffering?


Krishnamurti: You did not listen to what was being said. You were occupied with your question. While I was talking, your mind was wondering how you were going to ask your question, how you were going to put it into words, so your mind was occupied with what you were going to ask, and you did not really listen.

प्रश्न : जब तक चारों ओर इतना दुःख है तब तक हम सुखी संसार कैसे बना सकते हैं?


कृष्णमूर्ति : जो कुछ अभी कहा जा रहा था उसे आपने ध्यान से सुना नहीं | आप अपने ही प्रश्न में उलझे रहे | जिस समय मैं बोल रहा था आपका मन इस उधेड़-बुन में खोया था कि अपना प्रश्न किस प्रकार से पूछा जाए |

Read more >>

Education and the Significance of Life


Education and the Significance of Life

शिक्षा और जीवन का तात्पर्य


शिक्षा और जीवन का तात्पर्य

Read more >>

Anger Can Be Self-importance


Anger has that peculiar quality of isolation; like sorrow, it cuts one off, and for the time being, at least, all relationship comes to an end. Anger has the temporary strength and vitality of the isolated. There is a strange despair in anger; for isolation is despair.

क्रोध आत्म-महत्ता से संबंधित है


दुःख की भ्रान्ति क्रोध में भी अलग-थलग कर देने की वह विशेष क्षमता है जो व्यक्ति को सब से काट देती है, और कम से कम कुछ समय के लिए सभी संबंध समाप्त ही हो जाते है | यह क्रोध अलग-थलग व्यक्ति का अस्थायी शक्ति-स्रोत, उसका बल बन जाता है | क्रोध में एक विचित्र प्रकार की हताशा होती है, क्योंकि अलगाव हताशा ही तो होता है |

Read more >>    top of page ↑

Nature and Earth


Sir, I do not know if you have discovered your relationship with nature. There is no "right" relationship, there is only the understanding of relationship. Right relationship implies the mere acceptance of a formula, as does right thought.

प्रकृति और पृथ्वी


महोदय, मुझे नहीं मालूम की आप प्रकृति से अपना संबंध जान पाए है या नहीं | 'सही' संबंध जैसी कोई चीज़ नहीं होती, होती है केवल संबंध की समझ | सही संबंध में किसी पूर्वनिर्धारित सूत्र के यथावत स्वीकार किया जाना निहित रहता है -- सही विचार ही तरह |

Read more >>    top of page ↑

War: A Spectacular, Bloody Projection Of Ourselves


War is merely an outward expression of our inward state, an enlargement of our daily action. It is more spectacular, more bloody, more destructive, but it is the collective result of our individual activities. Therefore you and I are responsible for war, and what can we do to stop it?

युद्ध : दैनिक जीवन का ही बड़ा व्यापक और खूनी प्रक्षेपण


यह हमारी आतंरिक अवस्था की ही एक बाह्य अभिव्यक्ति है, वह हमारे दैनिक कर्म का ही एक विस्त्तार | यकीनन वह एक अधिक व्यापक, अधिक नृशंस, अधिक विध्वंसक है, परंतु है वह हमारी व्यक्तिगत क्रियाओं का ही सामूहिक परिणाम | अतः आप और मैं ही युद्ध के लिए जिम्मेदार हैं | अब प्रश्न है की हम उसे रोकने के लिए क्या कर सकते हैं?

Read more >>    top of page ↑